Shani Dev Aarti : शनि देव आरती : जय शनि देव

Shani Dev Aarti in Hindi and English Language. Shani dev aarti is a great way to pleased Lord Shani Dev, Because Shani Dev easily pleased by the devotion of his devotee. शनि देव आरती सूर्य पुत्र शनि देव को प्रसन्न करने का सबसे सरल और सफल उपाय है.

Shani Dev Aarti

Shani Dev Aarti शनि देव आरती शनिवार के दिन अवस्य करना चाहिए इससे शनि देव प्रसन्न होतें हैं और अपने भक्त के जीवन में आने वाले संकटों से रक्षा करतें हैं.

Read More : Shani Chalisa

शनि देव की कृपा से  शनि भक्त के जीवन में खुशियाँ आती हैं. दुःख संताप मिटता है.

Shani Aarti
Shani Dev Aarti
 

शनि देव आरती

जय जय जय श्री शनि देव
भक्तन हितकारी,
सूर्य पुत्र प्रभुछाया महतारी ||
जय जय जय शनि देव ||
श्याम अंग वक्र-दृष्टि
चतुर्भुजा धारी,
नीलाम्बर धार नाथ
गज की असवारी || जय..||
क्रीट मुकुट शीश राजित
दिपत है लिलारी,
मुक्तन की माल
गले शोभित बलिहारी || जय…||
मोदक मिष्ठान पान
चढ़त हैं सुपारी,
लोहा तिल तेल उड़द
महिषी अति प्यारी || जय…||
देव दनुज ऋषि मुनि
सुमिरत नर नारी,
विश्वनाथ धरत ध्यान
शरण हैं तुम्हारी||
जय जय जय श्री शनि देव ||

Shani Dev ki Aarti

Shani Dev ki Aarti
Shani Dev
 

शनि देव की आरती

जय जय शनि देव महाराज,
जन के संकट हरने वाले।

 

तुम सूर्य पुत्र बलिधारी,
भय मानत दुनिया सारी।
साधत हो दुर्लभ काज॥1॥

तुम धर्मराज के भाई,
जब क्रूरता पाई।
घन गर्जन करते आवाज॥2॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

तुम नील देव विकराली,
है साँप पर करत सवारी।
कर लोह गदा रह साज॥3॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

तुम भूपति रंक बनाओ,
निर्धन स्रछंद्र घर आयो।
सब रत हो करन ममताज॥4॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

राजा को राज मितयो,
निज भक्त फेर दिवायो।
जगत में हो गयी जय जयकार॥5॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

तुम हो स्वामी हम चरणं,
सिर करत नमामी जी।
पूर्ण हो जन जन की आस॥6॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

जहाँ पूजा देव तिहारी,
करें दीन भाव ते पारी।
अंगीकृत करो कृपाल॥7॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

कब सुधि दृष्टि निहरो,
छमीये अपराध हमारो।
है हाथ तिहारे लाज॥8॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

हम बहुत विपत्ति घबराए,
शरणागत तुम्हरी आये।
प्रभु सिद्ध करो सब काज॥9॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥

यहाँ विनय करे कर जोर के,
भक्त सुनावे जी।
तुम देवन के सिरताज॥10॥
॥जय जय शनि देव महाराज…॥
जय जय शनि देव महाराज,
जन के संकट हरने वाले।

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

 

Shani Aarti

Shani Aarti
Shani Dev
 
jay jay shani dev mahaaraaj, 
jan ke sankat harane vaale.
 tum soory putr balidhaaree, 
bhay maanat duniya saaree. 
saadhat ho durlabh kaaj.1. 
tum dharmaraaj ke bhaee, 
jab kroorata paee. 
ghan garjan karate aavaaj.2. .
jay jay shani dev mahaaraaj….
 tum neel dev vikaraalee,
 hai saanp par karat savaaree. 
kar loh gada rah saaj.3. 
.jay jay shani dev mahaaraaj…. 
 tum bhoopati rank banao, 
nirdhan srachhandr ghar aayo. 
sab rat ho karan mamataaj.4. .
jay jay shani dev mahaaraaj….
 raaja ko raaj mitayo, 
nij bhakt pher divaayo. 
jagat mein ho gayee jay jayakaar.5. .
jay jay shani dev mahaaraaj…. 
 tum ho svaamee ham charanan, 
sir karat namaamee jee. 
poorn ho jan jan kee aas.6. .
jay jay shani dev mahaaraaj…. 
jahaan pooja dev tihaaree, 
karen deen bhaav te paaree.
 angeekrt karo krpaal.7. .
jay jay shani dev mahaaraaj…. 
 kab sudhi drshti niharo, 
chhameeye aparaadh hamaaro. 
hai haath tihaare laaj.8. .
jay jay shani dev mahaaraaj….
 ham bahut vipatti ghabarae, 
sharanaagat tumharee aaye. 
prabhu siddh karo sab kaaj.9. .
jay jay shani dev mahaaraaj…. 
yahaan vinay kare kar jor ke, 
bhakt sunaave jee. 
tum devan ke sirataaj.10. .
jay jay shani dev mahaaraaj….
 jay jay shani dev mahaaraaj, 
jan ke sankat harane vaale.

Shani Dev Aarti in English

Shani Aarti in English
Shani Dev
 
jay jay jay shree shani dev 
bhaktan hitakaaree, 
soory putr 
prabhuchhaaya mahataaree || 
jay jay jay shani dev || 
shyaam ang vakr-drshti 
chaturbhuja dhaaree, 
neelaambar dhaar naath 
gaj kee asavaaree || jay..|| 
kreet mukut sheesh raajit 
dipat hai lilaaree, 
muktan kee maal
 gale shobhit balihaaree || jay…|| 
modak mishthaan paan 
chadhat hain supaaree, 
loha til tel udad 
mahishee ati pyaaree || jay…|| 
dev danuj rshi muni
 sumirat nar naaree, 
vishvanaath dharat dhyaan 
sharan hain tumhaaree|| 
jay jay jay shree shani dev || 
 
Shani Dev Ki aarti
Shani Dev
Read More from aartichalisa.com

Vishwakarma ji ki aarti

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment