Bajrangbali Ki Aarti | बजरंगबली की आरती | BAJRANGBALI AARTI

Bajrangbali Ki Aarti Video

बजरंगबली की आरती | Bajrangbali Ki Aarti महावीर श्री बजरंगबली की कृपा पाने का एक महामन्त्र है. बजरंगबली की आरती ( Bajrangbali Aarti ) इस कलयुग का एक बहुत बड़ा अस्त्र है. इस संसार में मनुष्य को सभी संकटों से बचाने वाले श्री हनुमान जी ही हैं. इसलिये बजरंगबली की आरती का महत्व बहुत ही ज्यादा हो जाता है. क्योंकि हनुमान चालीसा के बाद बजरंगबली हनुमान जी की स्तुति और आराधना करने का सबसे महत्वपूर्ण माध्यम बजरंगबली की आरती ही है.

Bajrangbali Ki Aarti

Bajrangbali Ki Aarti

|| श्री बजरंगबली की आरती ||

bajrangbali ki aarti
Bajrangbali KI Aarti

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं ,
जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम् ||
वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं ,
श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ||

bajrangbali ki aarti
Bajrangbali Ki Aarti

आरती किजै हनुमान लला की |
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

जाके बल से गिरिवर काँपै |
रोग दोष जाके निकट ना झाँके ॥

अंजनी पुत्र महा बलदाई |
संतन के प्रभु सदा सहाई ॥

दे बीरा रघुनाथ पठाये |
लंका जारि सिया सुधि लाये ॥

लंका सो कोट समुद्र सी खाई |
जात पवनसुत वार न लाई ॥

लंका जारि असुर संहारे |
सियाराम जी के काज सँवारे ॥

लक्ष्मण मुर्छित पड़े सकारे |
आनि संजीवन प्राण उबारे ||

पैठि पाताल तोरि जम कारे|
अहिरावन की भुजा उखारे ॥

बायें भुजा असुर दल मारे |
दाहीने भुजा सब संत जन उबारे ॥

सुर नर मुनि जन आरती उतारे |
जय जय जय हनुमान उचारे ॥

कचंन थाल कपूर लौ छाई |
आरती करत अंजनी माई ॥

जो हनुमान जी की आरती गावैं |
बसहिं बैकुंठ परम पद पावैं ॥

लंका विध्वंश किये रघुराई |
तुलसीदास स्वामी किर्ती गाई ॥

आरती किजे हनुमान लला की |
दुष्ट दलन रघुनाथ कला की ॥

Bajrangbali Aarti Lyrics

bajrangbali aarti
Bajrangbali Aarti

Aarti Kije Hanuman Lala Ki।
Dusht Dalan Ragunath Kala Ki॥

Jake Bal Se Girivar Kanpe।
Rog Dosh Ja Ke Nikat Na Jhanke॥

Anjani Putra Maha Baldayi।
Santan Ke Prabhu Sada Sahai॥

De Bira Raghunath Pathaye।
Lanka Jari Siya Sudhi Laye॥

Lanka So Kot Samudra-Si Khai।
Jaat Pavan Sut Bar Na Lai॥

Lanka Jari Asur Sanhare।
Siyaramji Ke Kaaj Sanvare॥

Lakshman Moorchhit Pade Sakare।
Aani Sajevan Pran Ubare॥

Paithi Pataal Tori Jam-kare।
Ahiravan Ke Bhuja Ukhare॥

Bayen Bhuja Asur Dal Mare।
Dahine Bhuja Santjan Tare॥

Sur Nar Muni Jan Aarti Utare।
Jai Jai Jai Hanuman Uchare॥

Kanchan Thar Kapoor Lau Chhai।
Aarti Karat Anjana Mayi॥

Jo Hanumanji Ki Aarti Gave।
Basi Baikunth Param Pad Pave॥

Aarti Kije Hanuman Lala Ki।
Dusht Dalan Ragunath Kala Ki॥

बजरंगबली की आरती का महत्व

बजरंगबली आरती
बजरंगबली आरती का महत्व

Importance of Bajrangbali ki Aarti

Bajrangbali Ki Aarti | बजरंगबली की आरती इस संसार में मनुष्य का एक बहुत ही बड़ा रक्षा कवच है.

बजरंगबली की आरती के द्वारा हम अपने आराध्य श्री महावीर बजरंगबली की स्तुति और आराधना करते हैं.

जहाँ-जहाँ बजरंगबली की आरती की जाती है, वहाँ चारों ओर एक सकारात्मक उर्जा प्रवाहित होने लगती है.

बजरंगबली की आरती करने से मनुष्य के अंदर एक विशेष आत्मबिस्वास का संचार होता है.

नकारात्मकता को हटाने के लिए बजरंगबली की आरती एक विशेष माध्यम है.

How to recite Bajrangbali ki Aarti?

बजरंगबली की आरती

बजरंगबली की आरती कैसे करें?

मंगलवार का दिन बजरंगबली की आरती ( Bajrangbali Ki Aarti ) के लिए विशेष माना गया है.

हनुमान जयंती, राम नवमी, शनिवार, मंगलवार, नवरात्री आदि दिनों में बजरंगबली की आरती ( Bajrangbali Aarti ) करना बहुत ही शुभ होता है.

अन्य दिनों में भी बजरंगबली की आरती करना शुभ ही माना जाता है.

प्रातः काल और संध्या काल का समय बजरंगबली की आरती के लिए उत्तम माना गया है.

वैसे आप किसी भी समय अगर बजरंगबली की आरती सम्पूर्ण भक्ति के साथ करतें हैं तो यह शुभ फलदायक हीं सिद्ध होता है.

बजरंगबली हनुमान जी के मंदिर में जाकर आरती करना या आरती में सम्मिलित होना बहुत ही शुभ होता है.

अपने घर पर भी बजरंगबली की प्रतिमा या तस्वीर के सामने खड़े होकर आरती करना शुभ होता है.

बजरंगबली की आरती ( Bajrangbali Ki Aarti ) सम्पूर्ण पवित्रता के साथ करें.

आरती करते समय बजरंगबली के प्रति श्रद्धा और भक्ति का भाव रखें.

आरती करने से पूर्व या पश्चात इस मन्त्र का जाप अवस्य करें.

मनोजवं मारुत तुल्यवेगं ,
जितेन्द्रियं,बुद्धिमतां वरिष्ठम् ||
वातात्मजं वानरयुथ मुख्यं ,
श्रीरामदुतं शरणम प्रपद्धे ||

हनुमान चालीसा का पाठ अवस्य करें.

Hanuman Chalisa

Benefits from Bajrangbali Ki Aarti

बजरंगबली की आरती से लाभ

श्री बजरंगबली की आरती ( Bajrangbali Ki Aarti ) करने से मनुष्य को महावीर बजरंगबली हनुमान जी की कृपा की प्राप्ति होती है.

बजरंगबली की आरती करने से नकारात्मक शक्तियों का नाश होता है.

जहाँ बजरंगबली की आरती होती है. वहाँ चारों ओर सकारात्मक उर्जा का प्रवाह होने लगता है.

सभी प्रकार के संकटों से बजरंगबली रक्षा करतें हैं.

रोगों और कष्टों से मुक्ति बजरंगबली प्रदान करते हैं.

बजरंगबली की कृपा से मनुष्य के बल – बुद्धि में बृद्धि होती है.

महावीर बजरंगबली की कृपा से मनुष्य के आत्मबिस्वास में बृद्धि होती है.

महावीर बजरंगबली हनुमान जी की कृपा से होने वाले सम्पूर्ण लाभों का वर्णन करना किसी के लिए भी असंभव है. महावीर बजरंगबली हनुमान सभी भक्तों की रक्षा करतें हैं. उनकी महिमा अपरम्पार है. इस कलयुग में वे मनुष्य का सबसे बड़ा सहारा हैं.

Bajrangbali Ki Aarti Download

बजरंगबली की आरती पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए निचे दिए गए पीडीऍफ़ डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें. आप चाहें तो इसे सीधे प्रिंट भी कर सकतें हैं.

निवेदन

महावीर बजरंगबली हनुमान जी की आरती ( Bajrangbali Ki Aarti ) पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ करें. बजरंगबली पर बिस्वास करें. वे आप पर अपनी कृपा अवस्य करेंगे.

बजरंगबली हनुमान जी महादेव शिव के ग्याहरवें रूद्र अवतार माने जातें हैं. धर्म ग्रंथों के अनुसार वे अजर अमर हैं. अपने सूक्ष्म रूप में वे सदा विचरण करते रहतें हैं.

जहाँ-जहाँ प्रभू श्री राम जी का स्मरण और स्तुति होता है. वहाँ-वहाँ वे अवस्य आतें हैं. जो कोई भक्त उन्हें सच्चे ह्रदय से पुकारता है, वहाँ वे अवस्य जातें हैं.

बजरंगबली की आराधना और स्तुति अवस्य करें. हनुमान चालीसा और बजरंगबली की आरती अवस्य करें.

इस पोस्ट में कहीं भी कोई सुधार की आवश्यकता हो तो हमें अवस्य कमेंट में लिखकर बताएं. हम उसे अवस्य सुधार करेंगे.

अगर यह पोस्ट आप सब लोगों को अच्छा लगा हो तो हमें कमेंट में अवस्य लिखें.

अगर आप कोई सुझाव या सलाह हमें देना चाहतें हैं तो हमें अवस्य बतायें.

बजरंगबली हनुमान जी संबंद्धित आप हनुमान जी के भक्तों का अगर कोई अनुभव हो तो हमें अवस्य कमेंट बॉक्स में लिखें. हम उसे इस website के माध्यम से पुरे संसार में पहुंचाएंगे.

हमारे अन्य site आरती संग्रह को अवस्य विजिट करें.

हमारे अन्य पोस्ट को भी अवस्य देखें.

हनुमान चालीसा | Hanuman Chalisa

Hanuman Bahuk | हनुमान बाहुक

हनुमान जी को बुलाने वाला सिद्ध मन्त्र

जय अम्बे गौरी आरती

कुबेर जी की आरती

श्री रामचंद्र जी की आरती

53 comments on Bajrangbali Ki Aarti | बजरंगबली की आरती | BAJRANGBALI AARTI

  1. I enjoy you because of your whole efforts on this blog. Gloria takes pleasure in setting aside time for research and it’s simple to grasp why. A number of us learn all of the lively method you provide vital information by means of the web site and as well cause participation from the others on the area of interest and our favorite girl has been understanding so much. Take advantage of the remaining portion of the new year. You are always doing a brilliant job.

  2. I and also my pals ended up reading through the great points on your website while suddenly developed a terrible suspicion I never expressed respect to the website owner for those strategies. My boys came as a result passionate to read through them and have now very much been using these things. We appreciate you being well kind and for getting variety of fabulous issues most people are really needing to be informed on. Our honest regret for not saying thanks to you earlier.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *