Bharat Mata Ki Aarti भारत माता की आरती

Bharat Mata Ki Aarti भारत माता की आरती – हम सबको अपनी मातृभूमि भारत माता की आराधना अवस्य करनी चाहिए. आप दिल से भारत माता की आराधना करें.

आप से जो भी हो सके भारत माता के लिए आप अवस्य करें. आप जिस भी कार्य को करने में सक्षम है, जो भारत माता के लिए हो आप अवस्य करें. इस भारत माता के लिए ना जाने कितने लोगों ने अपना सर्वस्व बलिदान कर दिया है. तो हम सब भी हम से जो हो सके, जिसमे हम सक्षम हो वो भारत माता के लिए अवस्य करें.

तो चलिए दिल से बोलें – भारत माता की जय.

Bharat Mata Ki Aarti भारत माता की आरती

Bharat Mata Ki Aarti
Bharat Mata Ki Aarti

|| भारत माता की आरती ||

आरती भारत माता की
जगत के भाग्यविधाता की |

सिर पर हिमगिरिवर सोहे, चरण को रत्नाकर धोए
देवता गोदी में सोए, रहे आनंद, होय न द्वंद, समर्पित छंद
बोलो जय बुद्दि प्रदाता की ||

आरती भारत माता की ………..

जगत से यह लगती न्यारी,
बनी है इसकी छवि प्यारी,
के दुनिया देख जले सारी,
देखकर झलक, झुकी है पलक, बढी है ललक,
कृपा बरसे जहां दाता की ||

आरती भारत माता की ………..

गोद में गंगा जमुना लहरे,
के भगवा फहर फहर फहरे,
लगे हैं घाव बहुत गहरे,
हुए हैं खंड, करेंगे अखंड, देकर दंड
मौत दुखदाता विदेशी की ||

आरती भारत माता की ………..

पले जहां रघुकुल भूषण राम, बजाए बंशी जहां घनश्याम,
जहां के कण कण तीरथ धाम
पले हर धर्म, साथ शुभ कर्म, ले बेशर्म
गुंजे धुन राम विधाता की ||

आरती भारत माता की ………..

बढे हिंदू का स्वाभिमान,
किया केशव ने जीवनदान,
बढाया माधव ने सम्मान,
चलेंगे साथ, हाथ में हाथ, उठाकर माथ
शपथ गीता, गौमाता की ||

आरती भारत माता की ………..

Bharat Mata Ki Aarti Video

भारत माता की आरती के विडियो निचे दिए गएँ हैं. आप इन विडियो को अवस्य देखें.

Aarti Bharat Mata Ki

Bharat Mata Ki Aarti with Lyrics

Bharat Mata Ki Aarti

ॐ जय भारत माता, मैयाँ जय भारत माता।
जो जन तुजको ध्याता, सुख सम्पद पाता।।
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

ऋशि – मुनियों ने तेरी, महिमा हैं गायी ।
ऋिद्धि सिद्धि वरदायक, प्रभुता प्रकटायी ।।
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

हरि हर ब्रह्या तेरे, आंगन में प्रकटे ।
असुरों को संहारा, सब के कष्ट मिटे ।।
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

यवन हुण शक आये, सबको समा लिया ।
आक्रामक रिपुओं को, तूने नष्ट किया
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

हिंदू जाति सब मिलकर, यह संकल्प करें ।
भक्तिभाव हो मन में, प्रेम प्रवाह बहे ।।
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

सच्चे मनसे माँ का, जो गुणगान करे ।
मनवांछित फल पावे, जीवन सफल करे ।।
ॐ जय भारत माता ।।धृ।।

हमारे साईट पर प्रकाशित अन्य प्रकाशनों की सूचि निचे दी जा रही है. आप केटेगरी के हिसाब से भी प्रकाशनों को देख सकतें हैं.

Shrimad Bhagwat Puran Ki Aarti – श्रीमद्भागवत पुराण की आरती

Gau Mata Ki Aarti : गौ माता की आरती

Shri Bhagwat Bhagwan Ki Aarti – श्री भागवत भगवान की है आरती

Tulsi Gayatri Mantra – तुलसी गायत्री मंत्र

Tulsi Ji Ki Aarti : तुलसी माता की आरती 

Surya Dev ki Aarti : सूर्य भगवान् की आरती

Know more about Bharat Mata From Wikipedia.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!