Surya Dev ki Aarti – सूर्य देव की आरती

Surya Dev ki Aarti is great source to pleased Lord Surya. भगवान् सूर्य ऐसे देवता हैं जिन्हें हम देख सकतें हैं. सूर्य देव इस पृथ्वी के समस्त प्राणियों के प्राण के श्रोत हैं.

Lord Surya is easily pleased by the devotion of his devotee.

According to Hindu mythology Lord Surya is a god which we can see.

सूर्य देवता की कृपा से ही इस धरा पर जीवन संभव है. वे इस धरती के समस्त प्राणियों को जीवन प्रदान करतें हैं. सूर्य देव की कृपा से ही समस्त प्राणियों का पालन-पोषण होता है.

Surya Aarti

Surya Deva KI Aarti
Surya Dev Ki Aarti

||सूर्य देव की आरती ||

जय जय जय रविदेव जय जय जय रविदेव |
रजनीपति मदहारी शतलद जीवन दाता ||

पटपद मन मदुकारी हे दिनमण दाता |
जग के हे रविदेव जय जय जय स्वदेव ||

नभ मंडल के वाणी ज्योति प्रकाशक देवा |
निजजन हित सुखराशी तेरी हम सब सेवा ||

करते हैं रविदेव जय जय जय रविदेव |
कनक बदन मन मोहित रुचिर प्रभा प्यारी ||

नित मंडल से मंडित अजर अमर छविधारी |
हे सुरवर रविदेव जय जय जय रविदेव ||

Surya Dev Aarti

Surya Dev Ki Aarti
Surya Dev

Jay jay jay ravidev jay jay jay ravidev |
Rajaneepati madahaaree shatalad jeevan daata ||

Patapad man madukaaree he dinaman daata |
Jag ke he ravidev jay jay jay svadev ||

Nabh mandal ke vaanee jyoti prakaashak deva |
Nijajan hit sukharaashee teree ham sab seva ||

Karate hain ravidev jay jay jay ravidev |
Kanak badan man mohit ruchir prabha pyaaree ||

Nit mandal se mandit ajar amar chhavidhaaree |
He suravar ravidev jay jay jay ravidev ||

Surya Dev ki Aarti

Surya Dev ki Aarti
Surya dev ki aarti

|| सूर्य भगवान् की आरती ||

जय कश्यप नन्दन, ऊँ जय अदिति नन्दन |
द्दिभुवन तिमिर निकंदन, भक्त हृदय चन्दन || ऊँ जय….

जय सप्त अश्वरथ राजित, एक चक्रधारी |
दु:खहारी, सुखकारी, मानस मलहारी || ऊँ जय….

जय सुर मुनि भूसुर वन्दित, विमल विभवशाली |
अघ-दल-दलन दिवाकर, दिव्य किरण माली || ऊँ जय….

जय सकल सुकर्म प्रसविता, सविता शुभकारी |
विश्व विलोचन मोचन, भव-बंधन भारी || ऊँ जय…

Get a 70% discount on Shared, WordPress Hosting, and Reseller Hosting. On top of that, you get a free domain registration for one year.

जय कमल समूह विकासक, नाशक त्रय तापा |
सेवत सहज हरत अति, मनसिज संतापा || ऊँ जय…

जय नेत्र व्याधि हर सुरवर, भू-पीड़ा हारी |
वृष्टि विमोचन संतत, परहित व्रतधारी || ऊँ जय…

जय सूर्यदेव करुणाकर, अब करुणा कीजै |
हर अज्ञान मोह सब, तत्वज्ञान दीजै || जय ..

Surya Bhagwan ki Aarti

Surya Bhagwan ki Aarti
Surya Aarti

Jaya kaśyapa nandana, om jaya aditi nandana.
Duibhuvan timira nikandana, bhakta hr̥daya candana. Om jaya….

Jaya sapta aśvaratha rājita, ek chakradhaari.
Du:Khahārī, sukhakārī, mānasa malahārī. Om jaya….

Jaya sura muni bhūsura vandita, vimala vibhavaśālī.
Agha-dala-dalana divākara, divya kiraṇa mālī. Om jaya….

Jaya sakala sukarma prasavitā, savitā śubhakārī.
Viśva vilōcana mōcana, bhava-bandhana bhārī. Om jaya…

Jaya kamala samūha vikāsaka, nāśaka traya tāpā.
Sēvata sahaja harata ati, manasija santāpā. Om jaya…

Jaya nētra vyādhi hara suravara, bhū-pīṛā hārī.
Vr̥iṣṭi vimōchana santata, parahita vratadhārī. Om jaya…

Jaya sūryadēva karuṇākara, aba karuṇā kījai.
Hara ajñāna mōha saba, tatvajñāna dījai. Om Jaya..

How to chant Surya Aarti?

  • सूर्य आरती किसी भी दिन की जा सकती है.
  • प्रातः काल का समय सूर्य आरती के लिए अत्यंत उत्तम है.
  • आप सायं काल को भी अस्त होते सूर्य की आरती कर सकतें हैं.
  • सूर्य उदय का समय सूर्य आरती के लिए सबसे उत्तम होता है.
  • किसी सरोवर या नदी में स्नान करके सूर्य भगवान् को अर्घ देने के पश्चात सूर्य आरती करने से उत्तम फल की प्राप्ति होती है.
  • प्रातः काल को स्नान करने के पश्चात सूर्य देव को जल से अर्घ दें.
  • उसके पश्चात सूर्य देव की आरती करें.
  • सूर्य देव की आरती पूर्ण श्रद्धा और बिस्वास के साथ करें.
  • अगर आप रविवार को सूर्य देव को प्रातः काल में अर्घ देकर सूर्य भगवान् की आरती करतें हैं तो यह अत्यंत शुभ होता है.

Benefits of Surya dev aarti

Surya dev aarti is very beneficial. Surya dev provides success in life. Chanting of Surya Aarti regularly provides health,wealth and peace of mind.

  • सूर्य देव की आरती से भगवान् सूर्य देव की कृपा प्राप्ति होती है.
  • भगवान् सूर्य देव की कृपा से मनुष्य को उत्तम स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है.
  • सूर्य देव की कृपा से शरीर निरोगी बनता है.
  • रोगों का नाश होता है.
  • जीवन में सफलता सूर्य देव की कृपा से मिलती है.
  • धन सम्पति की प्राप्ति सूर्य भगवान् की कृपा से मिलती है.
  • सूर्य देव की कृपा से प्राण शक्ति मिलती है.
  • इस श्रृष्टि में समस्त प्राणियों के जीवन के लिए सूर्य देव की कृपा अत्यंत आवश्यक है.

Read More /और पढ़ें

Ram Aarti/ श्रीराम जी की आरती भगवान् श्रीराम की कृपा पाने के लिए.

Krishna Aarti/ श्रीकृष्ण जी की आरती कृष्ण भगवान को प्रसन्न करने के लिये

Hanuman Aarti/हनुमान जी की आरती बजरंगबली की कृपा पाने के लिये

Hanuman Chalisa/हनुमान चालीसा समस्त भय का नाश करने वाला महामंत्र

Shani Dev Aarti/शनि देव की आरती भगवान् शनि देव को प्रसन्न करने के लिये

Surya Dev ki Aarti download pdf

To download Surya dev aarti pdf click the pdf download button to get aarti pdf.

सूर्य देव की आरती पीडीऍफ़ डाउनलोड करने के लिए निचे PDF डाउनलोड बटन पर क्लिक करें.

आज के इस प्रकाशन में बस इतना ही.

किसी भी तरह के सुझाव के लिए हमें कमेंट बॉक्स में लिखें.

कुछ अन्य महत्वपूर्ण प्रकाशनों को अवस्य देखें.

Leave a Comment