नर्मदा जी की आरती | Narmada Maiya Ji Ki Aarti

नर्मदा जी की आरती | Narmada Maiya Ji Ki Aarti

Narmada Ji Ki Aarti

नर्मदा जी की आरती

ॐ जय जगदानन्दी,
मैया जय आनंद कन्दी ।
ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा
शिव हरि शंकर, रुद्रौ पालन्ती ॥
ॐ जय जगदानन्दी………….

देवी नारद सारद तुम वरदायक,
अभिनव पदचण्डी ।
सुर नर मुनि जन सेवत,
सुर नर मुनि…
शारद पदवन्ती ।
ॐ जय जगदानन्दी………….

देवी धूमक वाहन राजत,
वीणा वाद्यन्ती।
झुमकत-झुमकत-झुमकत,
झननन झननन रमती राजन्ती ।
ॐ जय जगदानन्दी………….

देवी बाजत ताल मृदंगा,
सुर मण्डल रमती ।
तोड़ीतान-तोड़ीतान-तोड़ीतान,
तुरड़ड़ तुरड़ड़ रमती सुरवन्ती ।
ॐ जय जगदानन्दी………….

देवी सकल भुवन पर आप विराजत,
निशदिन आनन्दी ।
गावत गंगा शंकर, सेवत रेवा
शंकर तुम भव मेटन्ती ।
ॐ जय जगदानन्दी………….

मैयाजी को कंचन थार विराजत,
अगर कपूर बाती ।
अमरकंठ में विराजत,
घाटन घाट ,
कोटि रतन ज्योति ।
ॐ जय जगदानन्दी………….

मैयाजी की आरती,
निशदिन पढ़ीं गा‍वें,
हो रेवा जुग-जुग नर गावें,
भजत शिवानन्द स्वामी
जपत हरि मनवांछित पावे।

ॐ जय जगदानन्दी,
मैया जय आनंद कन्दी ।
ब्रह्मा हरिहर शंकर, रेवा
शिव हरि शंकर, रुद्रौ पालन्ती ॥

Narmada Ji Ki Aarti Hindi PDF

मैया नर्मदा जी की आरती को पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए निचे दिए गए पीडीऍफ़ डाउनलोड बटन पर क्लिक करें.

इन्हें भी पढ़ें :

Narmada Ji Ki Aarti in English Lyrics

गंगा मैया की आरती

मैया पार्वती आरती

मैया अन्नपूर्णा आरती

शिव जी की आरतियों का संग्रह

1 thought on “नर्मदा जी की आरती | Narmada Maiya Ji Ki Aarti”

Leave a Comment

error: Content is protected !!