Aarti Pretraj Sarkar Ki | प्रेतराज सरकार की आरती

Aarti Pretraj Sarkar Ki | प्रेतराज सरकार की आरतीमेहंदीपुर बालाजी में स्थित प्रेतराज सरकार की आराधना और स्तुति करने से सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियों से रक्षा होती है.

इस पोस्ट में आज हम श्री प्रेतराज सरकार की दो आरतियाँ आप सबके लिए प्रकाशित कर रहें हैं. आप इनमे से किसी भी आरती के द्वारा श्री प्रेतराज सरकार की आराधना और स्तुति कर सकतें हैं.

Aarti Pretraj Sarkar Ki | आरती प्रेतराज सरकार की

|| प्रेतराज सरकार की आरती ||

जय प्रेतराज कृपालु मेरी,
अरज अब सुन लीजिये |

मैं शरण तुम्हारी आ गया हूँ,
नाथ दर्शन दीजिये |

मैं करूं विनती आपसे अब,
तुम दयामय चित धरो |

चरणों का ले लिया आसरा,
प्रभु वेग से मेरा दुःख हरो |

सिर पर मोरमुकुट करमें धनुष,
गलबीच मोतियन माल है |

जो करे दर्शन प्रेम से सब,
कटत तन के जाल है |

जब पहन बख्तर ले खड़ग,
बांई बगल में ढाल है |

ऐसा भयंकर रूप जिनका,
देख डरपत काल है |

अति प्रबल सेना विकट योद्धा,
संग में विकराल है |

तब भूत प्रेत पिशाच बांधे,
कैद करते हाल है |

तब रूप धरते वीर का,
करते तैयारी चलन की |

संग में लड़ाके ज्वान जिनकी,
थाह नहीं है बलन की |

तुम सब तरह समर्थ हो,
प्रभुसकल सुख के धाम हो |

दुष्टों के मारनहार हो,
भक्तों के पूरण काम हो |

मैं हूँ मती का मन्द मेरी,
बुद्धि को निर्मल करो |

अज्ञान का अंधेर उर में,
ज्ञान का दीपक धरो |

सब मनोरथ सिद्ध करते,
जो कोई सेवा करे |

तन्दुल बूरा घृत मेवा,
भेंट ले आगे धरे |

सुयश सुन कर आपका,
दुखिया तो आये दूर के |

सब स्त्री अरु पुरुष आकर,
पड़े हैं चरण हजूर के |

लीला है अदभुत आपकी,
महिमा तो अपरंपार है |

मैं ध्यान जिस दम धरत हूँ,
रच देना मंगलाचार है |

सेवक गणेशपुरी महन्त जी,
की लाज तुम्हारे हाथ है |

करना खता सब माफ़,
उनकी देना हरदम साथ है |

दरबार में आओ अभी,
सरकार में हाजिर खड़ा |

इन्साफ मेरा अब करो,
चरणों में आकर गिर पड़ा |

अर्जी बमूजिब दे चुका,
अब गौर इस पर कीजिये |

तत्काल इस पर हुक्म लिख दो,
फैसला कर दीजिये |

महाराज की यह स्तुति,
कोई नेम से गाया करे |

सब सिद्ध कारज होय उनके,
रोग पीड़ा सब टरे |

“सुखराम” सेवक आपका,
उसको नहीं बिसराइये |

जै जै मनाऊं आपकी,
बेड़े को पार लगाइये |

Lyrics

Jai Pretraj Kripalu Meri,
Araj Ab Sun Lijiye.

Main Sharan Tumhari Aa Gaya Hun,
Nath Darshan Dijiye.

Main Karun Vinati Aapse Ab,
Tum Dayamay Chit Dharo.

Charano Ka Le Liya Aasra,
Prabhu Veg Se Mera Dukh Haro.

Sir Par Mormukut Kar Me Dhanush,
Galbich Motiyan Mal Hai.

Jo Kare Darshan Prem Se Sab,
Katat Tan Ke Jal Hai.

Jab Pahan Bakhtar Le Kharag,
Baayi Bagal Me Dhal Hai.

Aisa Bhayankar Rup Jinka,
Dekh Darpat Kal Hai.

Ati Prabal Sena Vikat Yoddha,
Sang Me Vikral Hai.

Tab Bhoot Pishach Baandhe,
Kaid Karte Hal Hai.

Tab Rup Dharte Vir Ka,
Karte Taiyari Chalan Ki.

Sang Me Ladake Jwan Jinki,
Thah Nahi Hai Balan Ki.

Tum Sab Tarah Samarth Ho,
Prabhu Sakal Sukh Ke Dham Ho.

Dushton Ke Maranhar Ho,
Bhakton Ke Pooran Kaam Ho.

Mai Hun Mati Ka Mand Meri,
Buddhi Ko Nirmal Karo.

Agyan Ka Andher Ur Me,
Gyan Ka Dipak Dharo.

Sab Manorath Siddh Karte,
Jo Koi Seva Kare.

Tandul Boora Ghrit Meva,
Bhent Le Aage Dhare.

Suyash Sun Kar Aapka,
Dukhiya To Aaye Dur Ke.

Sab Stri Aru Purush Aakar,
Pade Hain Charan Hajur Ke.

Lila Hai Adbhut Aapki,
Mahima To Aparmpar Hai.

Main Dhyan Jis Dam Dharat Hun,
Rach Dena Mangalachar Hai.

Sevak Ganeshpuri Mahant Ji,
Ki Laaj Tumhare Haath Hai.

Karna Khata Sab Maaf,
Unki Dena Hardam Saath Hai.

Darbar Me Aao Abhi,
Sarkar Me Haajir Khada.

Insaaf Mera Ab Karo,
Charano Me Aakar Gir Pada.

Arji Bamujib De Chuka,
Ab Gaur Is Par Kijiye.

Tatkal Is Par Hukm Likh Do,
Faisla Kar Dijiye.

Maharaj Ki Yah Stuti,
Koi Nem Se Gaya Kare.

Sab Siddh Karaj Hoy Unke,
Rog Pida Sab Tare.

“Sukhram” Sevak Aapka,
Usko Nahi Bisraiye.

Jai Jai Manau Aapki,
Bede Ko Par Lagaiye.

Aarti Pretraj Ki Kije | आरती प्रेतराज की कीजै

Aarti Pretraj Ki Kije
Aarti Pretraj Ki Kije

आरती प्रेतराज की कीजै
दीन दुखिन के तुम रखवाले |

संकट जग के काटन हारे
बालाजी के सेवक जोधा,
मन से नमन इन्हें कर लीजिए |

जिनके चरण कभी ना हारे.
राम काज लगि जो अवतारे |

उनकी सेवा में चित्त देते,
अर्जी सेवक की सुन लीजै |

बाबा के तुम आज्ञाकारी,
हाथी पर करे सवारी |

भूत जिन्न सब धर-थर कापे,
अर्जी बाबा से कह दीजै |

जिन्न आदि सब डर के मारे,
नाक रगड़ तेरे पड़े दुआरे |

मेरे संकट तुरतहि काटो,
यह विनय चित्त में धरि डीजे |

वेश राजसी शोभा पाता,
ढाल कृपाल धनुष अति भाता |

मैं आया कर शरण आपकी,
नैया पार लगा मेरी दीजै |

Lyrics

Aarti Pretraj Ki Kije,
Din Dukhin Ke Tum Rakhwale.

Sankat Jag Ke Katan Hare,
Balaji Ke Sevak Jodha,
Man Se Naman Inhe Kar Lijiye.

Jinke Charan Kabhi Na Hare,
Ram Kaj Lagi Jo Avtare.

Unki Seva Me Chit Dete,
Arji Sevak Ki Sun Lije.

Baba Ke Tum Aagyakari,
Hathi Par Kare Savari.

Bhut Jinn Sab Dhar Thar Kape,
Arji Baba Se Kah Dije.

Jinn Aadi Sab Dar Ke Mare,
Nak Ragad Tere Pade Duaare.

Mere Sankat Turatahi Kato,
Yah Vinay Chit Me Dhari Dije.

Vesh Rajasi Shobha Pata,
Dhal Kripal Dhanush Ati Bhata.

Mai Aaya Kar Sharan Aapki,
Naiya Paar Laga Meri Dije.

Aarti Pretraj Sarkar Ki

Read more :

Mehandipur Balaji ki Aarti

Shri Hanuman Ji Ki Aarti – श्री हनुमान जी की आरती

Salasar Balaji Ki Aarti, Lyrics, PDF, Video : श्री सालासर बालाजी की आरती

Hanuman Shabar Mantra : हनुमान जी को बुलाने का शक्तिशाली मंत्र


Balkrishna Aarti : बालकृष्ण आरती

Baba Ramdev Ji Ki Aarti – बाबा रामदेव जी की आरती

Leave a Comment