सरस्वती माता फोटो

Saraswati Chalisa : Hindi/English : Download

सरस्वती चालीसा/Saraswati Chalisa माता सरस्वती की कृपा प्राप्ति का एक सर्वोत्तम साधन है. माता सरस्वती बिद्या की देवी है. उनकी कृपा से मनुष्य को ज्ञान प्राप्ति होती है.

माता सरस्वती ज्ञान की देवी हैं. वे हंस पर विराजती हैं. वे वीणावादिनी हैं. माता सरस्वती को स्वेत रंग अति प्रिय है.

जिस पर माता सरस्वती की कृपा रहती है, उनको समस्त ज्ञान की प्राप्ति हो जाती है.

हमारे भारत में और जहाँ- जहाँ हिंदी धर्म के मानने वाले रहतें हैं, वे माता सरस्वती की पूजा अवस्य करतें हैं. विद्धार्थियों के लिए माता सरस्वती अति पूज्यनीय हैं.

Contents of this post
Saraswati Chalisa, Saraswati Chalisa lyrics, Saraswati Chalisa in
Hindi, Saraswati Chalisa in English. Saraswati Chalisa Hindi PDF,
Saraswati Chalisa English PDF, Benefits of Saraswati Chalisa and How to Chant Saraswati Chalisa.

Saraswati Chalisa

Saraswati chalisa in hindi
सरस्वती देवी

सरस्वती चालीसा

|| दोहा ||

जनक जननि पद्मरज,
निज मस्तक पर धरि।

बन्दौं मातु सरस्वती,
बुद्धि बल दे दातारि |

पूर्ण जगत में व्याप्त तव,
महिमा अमित अनंतु।

दुष्जनों के पाप को,
मातु तु ही अब हन्तु |

|| चौपाई ||

जय श्री सकल बुद्धि बलरासी,
जय सर्वज्ञ अमर अविनाशी |

जय जय जय वीणाकर धारी,
करती सदा सुहंस सवारी |

रूप चतुर्भुज धारी माता,
सकल विश्व अन्दर विख्याता |

जग में पाप बुद्धि जब होती,
तब ही धर्म की फीकी ज्योति |

तब ही मातु का निज अवतारी,
पाप हीन करती महतारी |

वाल्मीकिजी थे हत्यारा,
तव प्रसाद जानै संसारा |

रामचरित जो रचे बनाई,
आदि कवि की पदवी पाई |

कालिदास जो भये विख्याता,
तेरी कृपा दृष्टि से माता |

तुलसी सूर आदि विद्वाना,
भये और जो ज्ञानी नाना |

तिन्ह न और रहेउ अवलम्बा,
केव कृपा आपकी अम्बा |

करहु कृपा सोइ मातु भवानी,
दुखित दीन निज दासहि जानी|

पुत्र करहिं अपराध बहूता,
तेहि न धरई चित माता |

राखु लाज जननि अब मेरी,
विनय करउं भांति बहु तेरी |

मैं अनाथ तेरी अवलंबा,
कृपा करउ जय जय जगदंबा |

मधुकैटभ जो अति बलवाना,
बाहुयुद्ध विष्णु से ठाना |

समर हजार पाँच में घोरा,
फिर भी मुख उनसे नहीं मोरा |

मातु सहाय कीन्ह तेहि काला,
बुद्धि विपरीत भई खलहाला |

तेहि ते मृत्यु भई खल केरी,
पुरवहु मातु मनोरथ मेरी |

चंड मुण्ड जो थे विख्याता,
क्षण महु संहारे उन माता |

रक्त बीज से समरथ पापी,
सुरमुनि हदय धरा सब काँपी |

काटेउ सिर जिमि कदली खम्बा,
बारबार बिन वउं जगदंबा |

जगप्रसिद्ध जो शुंभनिशुंभा,
क्षण में बाँधे ताहि तू अम्बा |

भरतमातु बुद्धि फेरेऊ जाई,
रामचन्द्र बनवास कराई |

एहिविधि रावण वध तू कीन्हा,
सुर नरमुनि सबको सुख दीन्हा |

को समरथ तव यश गुन गाना,
निगम अनादि अनंत बखाना |

विष्णु रुद्र जस कहिन मारी,
जिनकी हो तुम रक्षाकारी |

रक्त दन्तिका और शताक्षी,
नाम अपार है दानव भक्षी |

दुर्गम काज धरा पर कीन्हा,
दुर्गा नाम सकल जग लीन्हा |

दुर्ग आदि हरनी तू माता ,
कृपा करहु जब जब सुखदाता |

नृप कोपित को मारन चाहे,
कानन में घेरे मृग नाहे |

सागर मध्य पोत के भंजे,
अति तूफान नहिं कोऊ संगे |

भूत प्रेत बाधा या दुःख में,
हो दरिद्र अथवा संकट में |

नाम जपे मंगल सब होई,
संशय इसमें करई न कोई |

पुत्रहीन जो आतुर भाई,
सबै छांड़ि पूजें एहि भाई |

करै पाठ नित यह चालीसा,
होय पुत्र सुन्दर गुण ईशा |

धूपादिक नैवेद्य चढ़ावै,
संकट रहित अवश्य हो जावै |

भक्ति मातु की करैं हमेशा,
निकट न आवै ताहि कलेशा |

बंदी पाठ करें सत बारा,
बंदी पाश दूर हो सारा |

रामसागर बाँधि हेतु भवानी,
कीजै कृपा दास निज जानी |

|| दोहा ||

मातु सूर्य कान्ति तव,
अन्धकार मम रूप |

डूबन से रक्षा करहु
परूँ न मैं भव कूप |

बलबुद्धि विद्या देहु मोहि,
सुनहु सरस्वती मातु |

राम सागर अधम को
आश्रय तू ही देदातु |

Saraswati Chalisa English

Saraswati chalisa
सरस्वती माता

~~ Doha ~~

Janak janani padmaraj,
Nij mastak par dhari.

Bandaun maatu sarasvatee,
Buddhi bal de daataari.

Poorn jagat mein vyaapt tav,
Mahima amit anantu.

Dusht janon ke paap ko,
Maatu tu hee ab hantu.

~~ Chaupai ~~

jay shree sakal buddhi balaraasee,
jay sarvagy amar avinaashee.

Jay jay jay veenaakar dhaaree,
Karatee sada suhans savaaree.

Roop chaturbhuj dhaaree maata,
Sakal vishv andar vikhyaata.

Jag mein paap buddhi jab hotee,
Tab hee dharm kee pheekee jyoti.

Tab hee maatu ka nij avataaree,
Paap heen karatee mahataaree.

Vaalmeekijee the hatyaara,
Tav prasaad jaanai sansaara.

Raamacharit jo rache banaee,
Aadi kavi kee padavee paee.

Kaalidaas jo bhaye vikhyaata,
Teree krpa drshti se maata.

Tulasee soor aadi vidvaana,
Bhaye aur jo gyaanee naana.

Tinh na aur raheu avalamba,
Kev kripa aapakee amba.

Karahu krpa soi maatu bhavaanee,
Dukhit deen nij daasahi jaanee.

Putr karahin aparaadh bahoota,
Tehi na dharee chit maata.

Raakhu laaj janani ab meree,
Vinay karun bhaanti bahu teree.

Main anaath teree avalamba,
Kripa karu jay jay jagadamba.

Madhukaitabh jo ati balavaana,
Baahuyuddh vishnu se thaana.

Samar hajaar paanch mein ghora,
Phir bhee mukh unase nahin mora.

Maatu sahaay keenh tehi kaala,
Buddhi vipareet bhee khalahaala.

Tehi te mrtyu bhee khal keree,
Puravahu maatu manorath meree.

Chand mund jo the vikhyaata,
Kshan mahu sanhaare un maata.

Rakt beej se samarath paapee,
Suramuni haday dhara sab kaanpee.

Kaateu sir jimi kadalee khamba,
Baarabaar bin vaun jagadamba.

Jagaprasiddh jo shumbhanishumbha,
Kshan mein baandhe taahi too amba.

Bharatamaatu buddhi phereoo jaee,
Raamachandr banavaas karaee.

Ehividhi raavan vadh too keenha,
Sur naramuni sabako sukh deenha.

Ko samarath tav yash gun gaana,
Nigam anaadi anant bakhaana.

Vishnu rudr jas kahin maaree,
Jinakee ho tum rakshaakaaree.

Rakt dantika aur shataakshee,
Naam apaar hai daanav bhakshee.

Durgam kaaj dhara par keenha,
Durga naam sakal jag leenha.

Durg aadi haranee too maata ,
Kripa karahu jab jab sukhadaata.

Nrip kopit ko maaran chaahe,
Kaanan mein ghere mrg naahe.

Saagar madhy pot ke bhanje,
Ati toophaan nahin kooo sange.

Bhoot pret baadha ya duhkh mein,
Ho daridr athava sankat mein.

Naam jape mangal sab hoee,
Sanshay isamen karee na koee.

Putraheen jo aatur bhaee,
Sabai chhaandi poojen ehi bhaee.

Karai paath nit yah chaaleesa,
Hoy putr sundar gun eesha.

Dhoopaadik naivedy chadhaavai,
Sankat rahit avashy ho jaavai.

Bhakti maatu kee karain hamesha,
Nikat na aavai taahi kalesha.

Bandee paath karen sat baara,
Bandee paash door ho saara.

Raamasaagar baandhi hetu bhavaanee,
Keejai krpa daas nij jaanee.

~~ Doha ~~

Maatu soory kaanti tav,
Andhakaar mam roop.

Dooban se raksha karahu
Paroon na main bhav koop.

Balabuddhi vidya dehu mohi,
Sunahu saraswatee maatu.

Raam saagar adham ko
Aashray too hee dedaatu.

Saraswati Chalisa PDF

To download Saraswati Chalisa select the Saraswati Chalisa. Copy it and save in pdf formate.

Another method is select Saraswati Chalisa, copy and save it on wordpad. Then convert it to PDF formate by the help of free online tools.

सरस्वती चालीसा को डाउनलोड करने के लिए सरस्वती चालीसा को सेलेक्ट कर ले. उसके बाद कॉपी करके pdf फ़ॉर्मेट में सेव कर लें.

दूसरा तरीका है सरस्वती चालीसा को सेलेक्ट कर के कॉपी कर ले. उसके बाद वर्ड पद में सेव कर लें. फिर ऑनलाइन टूल्स की मदद से पीडीऍफ़ फ़ॉर्मेट में कन्वर्ट कर लें.

Saraswati Chalisa Benefits

सरस्वती चालीसा के पाठ से माता सरस्वती प्रसन्न होती हैं.

माता सरस्वती की कृपा से मनुष्य को बिद्या और ज्ञान की प्राप्ति होती है.

जीवन में सफलता की प्राप्ति होती है.

किसी भी गायक या कलाकार के लिए माता सरस्वती की कृपा बहुत ही जरुरी है.

पढाई में सफलता माता सरस्वती की कृपा से मिलती है.

Hanuman Chalisa/हनुमान चालीसा

Shiv Chalisa/शिव चालीसा

Shani Chalisa/शनि चालीसा

Durga Chalisa/दुर्गा चालीसा

Vishnu Chalisa/विष्णु चालीसा

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment