Shri Bhairav Ji Ki Aarti : भैरव आरती : भगवान् काल भैरव जी की आरती

Shri Bhairav Ji Ki Aarti | श्री भैरव जी की आरती भगवान् भैरव जी को जो महादेव शिव के ही एक रूप माने जातें हैं, की आराधना के लिए किया जाता है.\

भगवान भैरव सदा अपने भक्तों की संकटों से रक्षा करतें हैं. उनकी आराधना करने से मनुष्य को संकटों से रक्षा होती है.

bhairav aarti

इस अंक में आप लोगों को श्री भैरव आरती हिंदी और इंग्लिश में मिलेगी. निचे आप लोगों को Shri Bhairav Ji Ki Aarti | श्री भैरव जी की आरती का PDF | पीडीऍफ़ डाउनलोड | Download लिंक मिलेगा. जिसे क्लिक करके आप श्री भैरव जी की आरती को पीडीऍफ़ में डाउनलोड कर सकतें हैं.

Shri Bhairav Baba Aarti Video

बाबा भैरव की आरती से मनुष्य के सभी बिघ्न बाधा दूर हो जातें हैं. भैरव बाबा की कृपा सदा अपने भक्त पर बनी रहती है. भैरव बाबा अपने भक्त को सभी संकटों से उबारते है.

Shri Bhairav ji ki Aarti

Shri Bhairav ji ki Aarti
Shri Bhairav ji ki Aarti

|| श्री भैरव जी की आरती ||

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा |
जय काली और गौरा देवी कृत सेवा
||

तुम्हीं पाप उद्धारक दुख सिंधु तारक |
भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक
||

वाहन शवन विराजत कर त्रिशूल धारी |
महिमा अमिट तुम्हारी जय जय भयकारी ||

तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होंवे |
चौमुख दीपक दर्शन दुख सगरे खोंवे
||

तेल चटकि दधि मिश्रित भाषावलि तेरी |
कृपा करिए भैरव करिए नहीं देरी
||

पांव घुंघरू बाजत अरु डमरू डमकावत |
बटुकनाथ बन बालक जन मन हर्षावत ||

बटुकनाथ जी की आरती जो कोई नर गावें |
कहें धरणीधर नर मनवांछित फल पावें ||

Aarti Bhairav Baba Ki

Aarti Bhairav Baba Ki
Aarti Bhairav Baba Ki

Jai Bhairav Deva, Prabhu Jai Bhairav Deva.
Jai Kali Aur Gaura Devi Krit Sewa.

Tumhi Pap Udharak Dukh Sindhu Taarak.
Bhakton Ke Sukh Kaarak Bhishan Wapu Dharak.

Wahan Swan Wirajat Kar Trishul Dhari.
Mahima Amit Tumhari Jai Jai Bhaykari.

Tum Bin Deva Sewa Safal Nahi Howe.
Chaumukh Deepak Darshan Dukh Sagre Khowe.

Tel Chatki Dadhi Mishrit Bhashawali Teri.
Kripa Kariye Bhairav Kariye Nahi Deri.

Paaw Ghunghru Bajat Aru Damru Damkawat.
Batuknath Ban Balak Jan Man Harshawat.

Batuknath Ji Ki Aarti Jo Koi Nar Gaawe.
Kahe Dharnidhar Nar Manwanchit Phal Pawe.

श्री भैरव जी की आरती कैसे करें?

kaal bhairav aarti

1.) भगवान श्री भैरव जी की आरती आप किसी भी दिन कर सकतें हैं.

2.) प्रातः काल और संध्या काल का समय श्री भैरव जी की आरती के लिए उत्तम होता है.

3.) आप किसी भैरव बाबा के मंदिर में जाकर या फिर श्री भैरव जी की तस्वीर के सामने खड़े होकर Bhairav Baba Ki Aarti | श्री भैरव बाबा की आरती कर सकतें हैं.

4.) आरती करते समय सम्पूर्ण रूप से मन को पवित्र रखें.

5.) भैरव बाबा की आरती के समय बाबा भैरव पर अपनी श्रद्धा बनाए रखें.

भैरव बाबा की आरती से लाभ

Bhairav Baba
Bhairav Baba

1.) भैरव बाबा की आरती करने से भगवान भैरव की कृपा प्राप्त होती है.

2.) भगवान भैरव अपने भक्तों की सभी प्रकार के संकटों से रक्षा करतें हैं.

3. ) जीवन में सुख और शान्ति की प्राप्ति भैरव बाबा की कृपा से होती है.

4.) सफलता की प्राप्ति भैरव बाबा की कृपा से होती है.

Shri Bhairav ji ki Aarti pdf Download

bhairav aarti

To download Shri Bhairav ji ki Aarti in Hindi and Bhairav Baba ki Aarti pdf please click the pdf download button below. If you want you can also print these aarti.

श्री भैरव जी की आरती को पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए निचे दिए गए पीडीऍफ़ डाउनलोड लिंक पर क्लिक करें. आप अगर चाहे तो इसे सीधे प्रिंट भी कर सकतें हैं.

अगर आपको पीडीऍफ़ डाउनलोड करने में कोई दिक्कत हो तो आप हमें निचे कमेंट में लिख सकतें हैं.

श्री भैरव बाबा की आरती के प्रकाशन में सम्पूर्ण रूप से सावधानी बरती गयी है. फिर भी अगर कहीं कोई त्रुटी रह गयी हो तो आप हमें निचे कमेंट बॉक्स के माध्यम से अवस्य बताएं. हम उसे ठीक करने की पूरी कोशिश करेंगे.

अगर आप कोई सुझाव या सलाह देना चाहतें हैं तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में लिखें. आपके सुझाव और सलाह से हमें बेहतर करने की प्रेरणा मिलती है.

भैरव कवच

भैरव कवच को धारण करने से मनुष्य के ऊपर सदा बाबा भैरव की कृपा बनी रहती है. भैरव कवच को Amazon से खरीदने के लिए निचे दिए गए भैरव कवच के फोटो पर क्लिक करें.

काल भैरव की मूर्ती को खरीदने लिए निचे दिए गए तस्वीर पर क्लिक करें.

हमारे अन्य प्रकाशनों को भी अवस्य देखें.

भैरव चालीसा

सूर्य देव की आरती

श्री राम रक्षा स्तोत्रम्

शिव जी की आरती

महा मृत्युंजय मन्त्र

Print Friendly, PDF & Email

Leave a Comment