Mata Shakumbhari Devi ki Aarti – माता शाकुम्भरी देवी की आरती

Mata Shakumbhari Devi ki Aartiमाता शाकुम्भरी देवी की आरती – माता शाकुम्भरी देवी भी माँ दुर्गा का ही रूप हैं. माता शक्ति की देवी हैं. शाकुम्भरी माता को पूर्णतया शाकाहारी पधार्थों का ही भोग लगाया जाता है. माता शाकुम्भरी देवी को वनशंकरी देवी भी कहा जाता है.

दुर्गा सप्तशती में माँ शाकुम्भरी का वर्णन किया गया है.

Mata Shakumbhari Devi ki Aartiमाता शाकुम्भरी देवी की आरती

|| शाकुम्भरी माता की आरती ||

Shakumbhari Devi ki Aarti

हरी ॐ श्री शाकुम्भरी अम्बा जी की आरती कीजो
ऐसी अदभुत रूप ह्रदय धर लीजो |

शताक्षी दयालु की आरती कीजो
तुम परिपूर्ण आदि भवानी माँ, सब घट तुम आप बखानी माँ |

शाकुम्भरी अम्बा जी की आरती कीजो ……….

तुम्ही हो शाकुम्भर, तुम ही हो सताक्षी माँ,
शिवमूर्ति माया प्रकाशी माँ |

शाकुम्भरी अम्बा जी की आरती कीजो ………

नित जो नर – नारी अम्बे आरती गावे माँ
इच्छा पूर्ण कीजो, शाकुम्भर दर्शन पावे माँ

शाकुम्भरी अम्बा जी की आरती कीजो…….

जो नर आरती पढ़े पढावे माँ, जो नर आरती सुनावे माँ,
बस बैकुंठ शाकुम्भर दर्शन पावे |

शाकुम्भरी अंबा जी की आरती कीजो………

इन्हें भी देखें – माँ बगलामुखी की आरती

माँ ज्वाला देवी की आरती

माँ शाकुम्भरी की आरती

Maa Shakumbhari Ki Aarti

जय जय शाकंभरी माता ब्रह्मा विष्णु शिव दाता,
हम सब उतारे तेरी आरती |
री मैया हम सब उतारे तेरी आरती |

संकट मोचनी जय शाकंभरी तेरा नाम सुना है,
री मैया राजा ऋषियों पर जाता मेधा ऋषि भजे सुमाता |
हम सब उतारे तेरी आरती …………

मांग सिंदूर विराजत मैया टीका शुभ सजे है,
सुंदर रूप भवन में लागे घंटा खूब बजे है |

री मैया जहां भूमंडल जाता जय जय शाकंभरी माता |
हम सब उतारे तेरी आरती …………..

क्रोधित होकर चली मात जब शुंभ निशुंभ को मारा,
महिषासुर की बांह पकड़ कर धरती पर दे मारा |

मैया मारकंडे विजय बताता पुष्पा ब्रह्मा बरसाता |
हम सब उतारे तेरी आरती ……………

चौसठ योगिनी मंगल गाने भैरव नाच दिखावे |
भीमा भ्रामरी और शताक्षी तांडव नाच सिखावें |

री मैया रत्नों का हार मंगाता दुर्गे तेरी भेंट चढ़ाता |
हम सब उतारे तेरी आरती ………….

कोई भक्त कहीं ब्रह्माणी कोई कहे रुद्राणी,
तीन लोक से सुना री मैया कहते कमला रानी |

री मैया मां से बच्चे का नाता ना ही कपूत निभाता |
हम सब उतारे तेरी आरती …………

सुंदर चोले भक्त पहनावे गले मे सोरण माला,
शाकंभरी कोई दुर्गे कहता कोई कहता ज्वाला री |

मैया दुर्गे में आज मानता तेरा ही पुत्र कहाता |
हम सब उतारे तेरी आरती………….

शाकंभरी मैया की आरती जो भी प्रेम से गावें,
सुख संतति मिलती उसको नाना फल भी पावे |

री मैया जो जो तेरी सेवा करता लक्ष्मी से पूरा भरता |
हम सब उतारे तेरी आरती …………

सुंदर भवन माँ तेरा विराजे शिवालिक की घाटी,
बसी सहारनपुर मे मैय्या धन्य कर दई माटी |

री मैय्या जंगल मे मंगल करती सबके भंडारे भरती |
हम सब उतारें तेरी आरती ………………

नीलभवन तेरे मात भवानी सेवा करते तेरी,
मैहर सागडी उपर करदे अब क्यों लाई देरी |

री मैय्या भवनों मे आप विराजें द्वारे पर नौबत बाजे |
हम सब उतारे तेरी आरती …………..

इन्हें भी देखें – माँ विन्ध्येश्वरी की आरती

माता नैना देवी की आरती

Mata Shakumbhari Devi ki Aarti Lyrics

Hari Om Shri Shakumbhari Amba Ji Ki Aarti Kijo,
Aisi Adbhut Rup Hriday Dhar Lijo.

Shatakshi Dayalu Ki Aarti Kijo,
Tum Paripurna Aadi Bhavani Maa, Sab Ghat Tum Aap Bakhani Maa.

Shakumbhari Amba Ji Ki Aarti Kijo.

Tumhi Ho Shakumbhar, Tum Hi Ho Satakshi Maa,
Shivmurty Maya Prakashi Maa.

Shakumbhari Amba Ji Ki Aarti Kijo.

Nit Jo Nar Naari Ambe Aarti Gaawe Maa,
Ichcha Purn Kijo, Shakumbhar Darshan Paawe Maa.

Shakumbhari Amba Ji Ki Aarti Kijo.

Jo Nar Aarti Padhe Padhawe Maa, Jo Nar Aarti Sunawe Maa,
Bas Baikunth Shakumbhar Darshan Paawe.

Shakumbhari Amba Ji Ki Aarti Kijo.

Also read – Jagdamba Mata Ki Aarti

Jai Adhya Shakti Aarti Lyrics

Maa Shakumbhari Ki Aarti Lyrics

Jay Jay Shakambhari Mata Brahma Vishnu Shiv Data,
Ham Sab Utare Aarti.
Ri Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti.

Sankat Mochani Jay Shakambhari Tera Nam Suna Hai,
Ri Maiya raja Rishiyon Par Jata Medha Rishi Bhaje Sumata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Maang Sindur Virajat Maiya Tika Shubh Saje Hai,
Sundar Rup Bhavan Me Laage Ghanta Khub Baje Hai.

Ri Maiya jahan Bhumandal Jata Jay Jay Shakambhari Mata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Krodhit Hokar Chali Maat Jab Shumbh Nishumbh Ko Mara,
Mahishasur Ki Baanh Pakad Kar Dharati Par De Mara.

Maiya Maarkande Vijay Batata Pushpa Brahma Barsata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Chousanth Yogini Mangal Gaane Bhairav Naach Dikhawe.
Bheema Bhramari Aur Shatakshi taandav naach Sikhawen.

Ri Maiya Ratno Ka Haar Mangata Durge teri Bhent Chadhata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Koi Bhakt Kahin Brahmaani Koi Kahe Rudrani,
Tin Lok Se Suna Ri Maiya Kahte Kamla Rani.

Ri Maiya Maa Se Bachche Ka Nata Na Hi Kaput Nibhata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Sundar Chole Bhakt pahnaawe Gale Me Soran Mala,
Shakambhari Koi Durge Kahta Koi Kahta Jwala Ri.

Maiya Durge Me Aaj Maanta Tera Hi Putra Kahata.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Shakambhari Maiya Ki Aarti Jo Bhi Prem Se Gawe,
Sukh Santati Milti Usko Nana Phal Bhi Pawe.

Ri Maiya Jo Jo Teri Sewa Karta Lakshmi Se Pura Bharta.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Sundar Bhavan Maa Tera Viraje Shivalik Ki Ghati,
Basi Saharanpur Me Maiya Dhanya Kar Dai Maati.

Ri Maiya Jangle Me Mangal karti Sabke Bhandare Bharti.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

Nilbhavan Tere Maat Bhavani Seva Karte Teri,
Maihar Saagdi Upar Karde Ab Kyon Laayi Deri.

Ri Maiya Bhavano Me Aap Viraje Dware Par Naubat Baaje.
Maiya Ham Sab Utare Teri Aarti………..

माँ शाकम्भरी के बारे में और जानकारी के लिए विकिपीडिया से जाने.

Download | डाउनलोड

माता शाकुम्भरी देवी की आरती को डाउनलोड करने के लिए निचे दिए गए डाउनलोड बटन पर दबाएँ. इससे आपके सामने डाउनलोड पेज खुल जाएगा. जहाँ से आप इसे डाउनलोड कर पायेंगे.

हमारे द्वारा प्रकाशित अन्य प्रकाशनों को भी जरुर देखें.

Leave a Comment

error: Content is protected !!